अमेरिका राष्ट्रपति Donald Trump ने Tik Tokको लेकर दिया एक सनसनी बयान

वॉशिंगटन: चाइना मोबाइल ऐप का भारतीयों द्वारा बहिष्कार करने के बाद भारत सरकार ने प्ले स्टोर से चीन की 15 दर्जन मोबाइल ऐप को हटा दिया। जिसके कारण चाइना को काफी राजस्व का नुकसान उठाना पड़ा। इसी का असर अमेरिका में देखने को मिल रहा है
ट्रम्प प्रशासन ने शुक्रवार को बयान जारी करते हुए कहा कि रविवार मध्यरात्रि से अमेरिकी ऐप स्टोर्स से चीनी स्वामित्व वाले मोबाइल ऐप WeChat और TikTok को बंद करने जा रहा है. सूत्रों के मुताबिक बताया जाता है कि अमेरिकी मिलियन यूजर Wechat और टिक टॉक को यूज करते हैं। मस्जिद मद्देनजर रखते हुए अमेरिका के इस फैसले से चीन को काफी बड़ा  राजस्व नुकसान उठाना पड़ सकता है।

  वहीं संयुक्त राज्य अमेरिका ने चीन पर आरोप लगाते हुए कहा है कि उसने वीचैट और टिक टॉक के लिए बेकार तकनीक को इस्तेमाल करते हुए लोकप्रिय लोकप्रियता हासिल करने की कोशिश कीजिए। जिसके कारण रंग प्रशासन ने वीचैट और टिक टॉक को अमीन की प्ले स्टोर से हटाने का निर्णय लिया है। आमिर की ट्रक पर सब ने दावा करते हुए कहा है कि  WeChat व Tik Tok अमेरिकी सुरक्षा एजेंसियों के लिए बड़ा खतरा बना हुआ था इसलिए सरकार ने यह फैसला किया है
12 नवंबर को टिकटोक के लिए भी इसी तरह के प्रतिबंध लागू होंगे। चीन के बाइटडांस के स्वामित्व वाला टिकटोक वर्तमान में एक सौदे के बारे में ओरेकल के साथ बातचीत कर रहा है जो अमेरिकी सॉफ्टवेयर निर्माता के लिए कुछ नियंत्रण स्थानांतरित कर सकता है।  वाणिज्य विभाग ने कहा कि यदि टिकटोक नवंबर की समय सीमा तक प्रशासन की राष्ट्रीय सुरक्षा चिंताओं का समाधान करता है, तो प्रतिबंधों को हटा दिया जा सकता है।

Trump प्रशासन ने जिस तरह चीनी ऐप को लेकर बड़ा फैसला लिया है अब देखना यह है कि इससे चीन के डी चैट और टिपटॉप के राजस्व की कितना बड़ा असर पड़ेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *